bhavlingisant.com

Author name: Amritesh

Ancient and modern philosophy prevalent in India!(भारत में प्रचलित प्राचीन एवं आधुनिक दर्शन)

भारत में प्रचलित प्राचीन एवं आधुनिक दर्शन ‘कर्मारातीन् जयतीति जिन:’ इस व्युत्पत्ति के अनुसार जिसने राग द्वेष आदि शत्रुओं को जीत लिया है वह ‘जिन’ है। अर्हत, अरिहंत, जिनेन्द्र, वीतराग, परमेष्ठी, आप्त आदि उसी के पर्यायवाची नाम हैं। उनके द्वारा उपदिष्ट दर्शन जैनदर्शन हैं। आचार का नाम धर्म है और विचार का नाम दर्शन है […]

Ancient and modern philosophy prevalent in India!(भारत में प्रचलित प्राचीन एवं आधुनिक दर्शन) Read More »

श्रावक की षट् आवश्यक क्रियायें !! Six essential activities of a Shravak!!

श्रावक की षट् आवश्यक क्रियायें !! Six essential activities of a Shravak!! ‘देव-पूजा, गुरु-पास्ति:, स्वाध्याय: संयमस्तप:। दानं चेति गृहस्थानां, षट्-कर्माणि दिने दिने।।’’ देव-पूजा, गुरु-उपासना, स्वाध्याय, संयम, तप और दान गृहस्थों के प्रतिदिन के छ: कार्य हैं अर्थात् गृहस्थों को इन छ: कार्यों को प्रतिदिन अवश्य करना चाहिए। जो पुरुष देवपूजा, गुरु की उपासना, स्वाध्याय, संयम,

श्रावक की षट् आवश्यक क्रियायें !! Six essential activities of a Shravak!! Read More »

दक्षिणायन एवं उत्तरायण का क्रम !! Order of Dakshinayan and Uttarayan!!

दक्षिणायन एवं उत्तरायण का क्रम !! Order of Dakshinayan and Uttarayan!! जब सूर्य श्रावण कृष्णा १ के दिन प्रथम गली में रहता है तब दक्षिणायन होता है एवं उसी वर्ष माघ कृष्णा ७ को उत्तरायन है। तथैव दूसरी वर्ष— श्रावण कृष्णा १३ को दक्षिणायन एवं माघ शुक्ला ४ को उत्तरायन होता है। तीसरी वर्ष—श्रावण शुक्ला

दक्षिणायन एवं उत्तरायण का क्रम !! Order of Dakshinayan and Uttarayan!! Read More »

अनदेखा— सच !! unseen true!!

अनदेखा— सच !! Unseen true!! ऐसे रेस्टोरेंट्स के बारे में कुछ सच्चाई जहां मांसाहारी एवं शाकाहारी भोजन एक साथ बनाता है। यह मेरे निजी अनुभव के आधार पर लिखा गया है। नितिन सोनी मैंने पिछली एक साल ऐसे रेस्टोरेंट में प्रबंधन का कार्य संभाला , जहां पर शाकाहारी एवं मांसाहारी दोनों तरह का खाना बनता

अनदेखा— सच !! unseen true!! Read More »

कर्म और पुनर्जन्म की व्याख्या !! Karma and Reincarnation Explained!!

कर्म और पुनर्जन्म की व्याख्या !! Karma and Reincarnation Explained!! संसार का प्रत्येक प्राणी सुख की इच्छा करता है और दु:ख से डरता है, कर्म का आत्मा के साथ संयुक्त होने से ही आत्मा विभिन्न योनियों, ऊँची-नीची गतियों में भ्रमण करता रहता है। प्राणी जो कुछ भी कर्म करता है, उन कर्मों का फल उसे भोंगना

कर्म और पुनर्जन्म की व्याख्या !! Karma and Reincarnation Explained!! Read More »

अण्डाहार: धर्मग्रन्थ और विज्ञान !! Andhaar: Scripture and Science!!

अण्डाहार: धर्मग्रन्थ और विज्ञान !! Andhaar: Scripture and Science !! सारांश वैज्ञानिक दृष्टि से अण्डाहार के दुष्प्रभावों की विवेचना के उपरान्त यह प्रतिपादित किया गया है कि अण्डाहार को शाकाहार बताना महज एक दुष्प्रचार है। आलेख में विभिन्न धर्मो में अण्डाहार के निषेध के प्रमाण भी प्रस्तुत किये गये हैं अण्डों की अनुपयोगिता का वैज्ञानिक कारण सान्द्र प्रोटीन का शरीर के लिये

अण्डाहार: धर्मग्रन्थ और विज्ञान !! Andhaar: Scripture and Science!! Read More »

क्या सचमुच तिरुपति बालाजी मंदिर नेमीनाथ जैन मंदिर था , जिसे 12वीं सदी के आसपास बदला गया? !! Was the Tirupati Balaji temple really the Neminath Jain temple, which was converted around the 12th century?!!

क्या सचमुच तिरुपति बालाजी मंदिर नेमीनाथ जैन मंदिर था , जिसे 12वीं सदी के आसपास बदला गया? !! Was the Tirupati Balaji temple really the Neminath Jain temple, which was converted around the 12th century? !!  क्या सचमुच तिरुपति बालाजी मंदिर नेमीनाथ जैन मंदिर था , जिसे 12वीं सदी के आसपास बदला गया?  यह बात

क्या सचमुच तिरुपति बालाजी मंदिर नेमीनाथ जैन मंदिर था , जिसे 12वीं सदी के आसपास बदला गया? !! Was the Tirupati Balaji temple really the Neminath Jain temple, which was converted around the 12th century?!! Read More »

27 मंदिरों को तोड़कर बनी कुतुबमीनार !! Qutub Minar built by breaking 27 temples !!

27 मंदिरों को तोड़कर बनी कुतुबमीनार !! Qutub Minar built by breaking 27 temples !!  27 मंदिरों को तोड़कर बनी कुतुबमीनार अयोध्या के श्रीराम जन्म भूमि और बाबरी मस्जिद प्रकरण के बाद, इस समय काशी मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद की चर्चा सब और है  इसी पर, आपको चिंतन के लिए बताना चाहते हैं कि सरकार

27 मंदिरों को तोड़कर बनी कुतुबमीनार !! Qutub Minar built by breaking 27 temples !! Read More »

सौंदर्य प्रसाधन के शाकाहारी विकल्प !! vegan alternatives to cosmetics !!

सौंदर्य प्रसाधन के शाकाहारी विकल्प !! vegan alternatives to cosmetics !! सौंदर्य देखने वाले की दृष्टि में होता है। जिससे हमें बहुत अनुराग होता है उसको हम सुन्दर मानते हैं। अपनी माँ या दादी—नानी क्या आपको सुन्दर नहीं लगतीं ? लगती हैं, पर इन्होंने कोई कॉस्मेटिक तो प्रयोग किए ही नहीं। सूती साड़ी, ढका हुआ

सौंदर्य प्रसाधन के शाकाहारी विकल्प !! vegan alternatives to cosmetics !! Read More »

जैन धर्म का संस्थापक कौन…… ? Who is the founder of Jainism?

जैन धर्म का संस्थापक कौन…… ? भारत एक ऐसा देश है जहाँ की माटी को मात्र जल और हल से ही नहीं सींचा जाता बल्कि धार्मिक संस्कारों की संस्कृति से इसका अभिषेक किया जाता है | भारत के इतिहास  पर यदि दृस्टि डालें तो यहाँ की संस्कृति में धर्म का प्रारंभ से ही एक महत्त्वपूर्ण

जैन धर्म का संस्थापक कौन…… ? Who is the founder of Jainism? Read More »

Scroll to Top